Saturday, July 01, 2017

I shared expression
Spoke uncouth
Released raw emotion
As pages
Of life were on turn -
So long,
My friend
I say today to this blog
I've grown enough to sign -
The end.

पिछली बार जब चोट लगायी थी 
मन के क़लम को 
आँखों से बहती रौशनाई
ने बढ़ कर 
ढ़ारस दिलाई थी,
अबकी आपके वार की गहराई से
रूठे हैं सारे शब्द
टूटी क़लम
सुखी स्याही है.