Saturday, July 01, 2017

I shared expression
Spoke uncouth
Released raw emotion
As pages
Of life were on turn -
So long,
My friend
I say today to this blog
I've grown enough to sign -
The end.

पिछली बार जब चोट लगायी थी 
मन के क़लम को 
आँखों से बहती रौशनाई
ने बढ़ कर 
ढ़ारस दिलाई थी,
अबकी आपके वार की गहराई से
रूठे हैं सारे शब्द
टूटी क़लम
सुखी स्याही है.

Thursday, June 29, 2017

मौसम में आज नमी सी है
मानो है ख़बर
यहाँ कुछ कमी सी है
दिल की दहलीज़ पर ले आयी हूँ
ख़ाली करने को अपनी उम्मीद
हर मासूम अहसास
जिस ने थी जान भरी
जिस की दस्तक से रवा हुई थी
कुछ दम मेरे वजूद में साँस
अब ना शिकवा ना गिला है
ना याराने का कोई भ्रम
रसमें वफ़ा है क्या ख़ूब निभी
आपके बेवफ़ा अन्दाज़ के साथ. 

Wednesday, June 28, 2017

हम ने बेज़ुबानी में क़रार पाया है
जो सुना इश्क़ कि ज़ुबान नहीं होती,
ख़ामोश सच कि तलबगार अब हूँ 
तुम्हारे तसल्लियों पे क्यूँ यक़ीन करूँ
बाहरी रानाईयों के ख़रीदार हो तुम
अहं की क़ैद में गिरफ़्तार हो तुम
सो तुम्हारी बेरुख़ी पे हैरान क्यों हूँ -
सहमे सनम में वफ़ा की शान नहीं होती।

Wednesday, June 14, 2017

आधे अधूरे हम रहे
बाँटे बटे से तुम -
क्या इसी तक़दीर को लिख
विधाता ने दिया जन्म?
इतिहास और पुराण में पूर्णता 
से रब की पहचान है
मुकम्मल करना ही तो
कामिल का कमाल और शान है।


Tuesday, June 13, 2017

क्यूँ पूछते हो
बदहाल का हाल -
झूठ हम कह नहीं सकते
सच सुनने की
तुम में कहाँ है मजाल?

Sunday, June 11, 2017

As if heartache was not enough
The body cries with hurt too
When I immerse my time-space
Into slog 
With hopes to turn tough

Show iron face to a reality without you.
As if heartache was not enough
The body cries with hurt too
When I immerse my time-space
Into slog 
With hopes to turn tough

Show iron face to a reality without you.
As if heartache was not enough
The body cries with hurt too
When I immerse my time-space
Into slog 
With hopes to turn tough

Show iron face to a reality without you.

Sunday, June 04, 2017

बचपन में नानी
कहानी सुना
बड़े शान से मुस्कुराती
करवट ले
कुछ यूँ बुदबुदाती
कि हुआ क़िस्सा ख़त्म
और कहानी हज़म ...
तो अब क्यूँ ना रहे
अटल यही नियम
हमारा क़िस्सा जब
तुमने है ख़त्म कर दिया
क्यूँ मेरे मन को हज़म
का इंतज़ार रहे?

Saturday, May 27, 2017

Body to spirit
is inseparably betrothed
while there remain
any sign of life;
and, when it chooses
to say -
I wanna go, goodbye
spirit leaves
making room,
for its time
to get signed
life's Death Certificate!
On the first
day of Ramadan
let cyber
bear witness
for renderings of my heart -
nought else but gratitude
for meaning He
brought through you
to the dusk of my day
and dawn at its start.

Tuesday, May 23, 2017

तुम्हें रंगीनियों से तर कर
रंग मेरा सादा है।

Monday, May 22, 2017

उसे है आदत
अपना कर मुकर जाने की
हमें है आरज़ू
परायों पर
बोझ ना बन जाने की
रब हो तुम
तो हक़ रही
तुम्हारी विधि भी
अपने बन्दों को आज़माने की -
इसी से सेराब है बंदगी
मेरी प्यास के पैमाने की!
Cause?
If you pause
to listen
to the heart
in life's busy season -
it'll reveal itself
on insight's horizon
as clear as
Light of Dawn!

Sunday, May 21, 2017

there's pine,  there's pain
along with lessons to gain
that unknowingly once again
I'd embraced illusion.



Saturday, May 20, 2017

What keeps us
from giving a share
of piece of thought
that's ours -
isn't it mistrust
which harbingers
sheer miserliness
of heart?

Friday, May 19, 2017

Tick tock
Tick tock
goes the clock
as if to mock
the silent wait
for Eternity.

Wednesday, May 17, 2017

लफ़्ज़  भारी हैं -
सो हमने मुस्कुरा
तुम्हें जोकर
कह दिया!

Tuesday, May 16, 2017

कहते हैं सभी
रूह को देखो, कि
इस में इंसान की धरी
हक़ीक़त है,
फिर जो हम
तुम्हारे चेहरे पे खींची 
लकीरों से
अपने वजूद का 
पता पूछते हैं -
क्या इस लिए कि
तुम रूह हो मेरी ?

I am dumb
I am mute
To savour most
Of pain
While its acute!
मूक हूँ कि
मुर्दे की जुबां नहीं होती।
कहूँ क्या मैं उनसे -
फ़िज़ाएँ तुम्हारा पता पूछतीं हैं
सजी थी जो गलियाँ
आमद से, तुम से
तड़प कर मेरे हर क़दम रोकती हैं
चलना अकेले जब वकते क़ज़ा हो
अभी से क्यूँ साँसें कफ़न ढूँढती हैं?

Saturday, May 13, 2017

ना बनना रूह का रिश्तेदार -
इस रिशते को एक बार हाथ 
पकड़ कभी ना छोड़ने की 
हिम्मत है दरकार;
तुमने तो कई बार 
अंधेरों को सौंप
छोड़ा है मेरा साथ।

Friday, May 12, 2017

That whose very breath
billows life in vein 
turns to ask 
with feign of pique -
did I pray?
and I lol to say
what choice I've mate,
beside?

Thursday, May 11, 2017

Its festival of light tonight -
I am reminded
to inch closer
towards His rope,
at time when
every cell's in ache
life has ceased
to make sense,
rather threatens to break
resilience of my spirit;
freezing fear
I'll turn to ask
from Your Light tonight -
be there
give me hope.

Wednesday, May 10, 2017

कौन ख़ाली है?
हम, तुम
दोनों ही तो भरे पूरे हैं
ख़ालीपन के अहसास से।

Tuesday, May 09, 2017

Naaah....
don't need my void
to be filled
with any empty word
or,  fake fragrance!

Monday, May 08, 2017

No Armani
nor any Vetiver
match musk
of the hour
spent in your company.

Sunday, May 07, 2017

Put self to sleep
With consolation -
These are times of pollution
It afflicts the yield
Of lover's harp too
Have no expectation
Commitment won't last
Love's shelf life's short
In a heart
Driven by consumption! 
कई भावनाओं का अज़म ले बढ़ते है मुसाफिर
मंज़िल की ओर -
उल्फत, मुहब्बत, इश्क़, आश्नाई;
सब सच्चे हैं;
तुम्हारे वजूद में विलींन होने क़ी कसक में
मेरी सच्चाई है।


आभारी हूँ -
बरसों की ख़िज़ाँ रही
मगर छह महीने की बहार की मात
हालात के पलड़े पर भारी है,
मेरी ख़्वाबीदा शाखों पर अब भी
हरियाली है!
I gaze at flow
Water is on move
Thames is gurgling below
In waves and ripples
It breaks 
And speaks 
To awareness of my soul -
Whether I surge 
Or, choose to be still,
In river of life
There's cause for fear no more
I'll eventually be carried 
Through to the shore. 
theres pine, there's pain
along with the gain
that unknowingly
I'd stepped
into illusion again!

Saturday, May 06, 2017

कहते हैं सभी
रूह को देखो, कि
इस में इंसान की धरी
हक़ीक़त है -
फिर क्यूँ हम
तुम्हारे चेहरे पे खींची 
लकीरों से
अपने वजूद का 
पता पूछते हैं?
इस लिए कि
तुम रूह हो मेरी ?


Thursday, May 04, 2017

I am a phone call away
and yet he pouts to say -
I miss you.
What'll you do
I ask,
when I'm taken
light years away?

Ikigai

The speaker spoke -
what is your 'ikigai'?
what's that for which you live?
what's the reason for your being?
and my grey matter
jumped off from where
it was held captive,
within the passively listening
'me' in my seat -
how could I not be seeing
no he, no she
neither for this, nor that
all my life has been directed
I've lived
only for You.





Life feels
to have come full circle
when every ordeal
at its core
has to reveal -
Your Grace
at work to raise bar
for human endeavour.


Wednesday, May 03, 2017

I am always on his mind
he says -
and, I whisper
in surrender
Darling...but
I'd applied
to be housed
in your heart space..
no worries dear
be without fret or fear
I shall remain
shutout
of promised place
and not complain
ever.

Sunday, April 23, 2017

तुम्हीं सम्भालो उसे
जिसे ज़िंदगी जीने का शऊर नहीं
वो कला जो दुनियादारी कहला
मेरे अपनो में है मशहूर हुई
ना सिखलायी तुम ने
ना इसके सलीक़े की अदा
इस कोरे दिल को
कभी मंज़ूर हुई।

Saturday, April 22, 2017

Neither time
Not this space is mine
I ease into place
To just witness
Changing scenes
Change in climes.
Kaun apna hai
Kaun paraya
Thokren khayin
phir samajh mein aaya
Baat khud ki nikli thi
Ek akele se
Sham dhali to apne saye ko
Bas us ek hi wajood ke
bal pe khada paya 

Friday, April 21, 2017

I am here -
my time is now
a mere blip
a dot
amongst many
and through this moment
is the gateway;
I sense Your presence beyond
with infinite patience You wait
and my coming is slow.

Thursday, April 06, 2017

The Hero's tale
I devoured in my kid year
Serves as compass
To my roadmap it's
Message is clear:
Turn not back to see,
For what was
Is no longer there.

Wednesday, April 05, 2017

गो कि हो सबकी मंज़िल तुम ही
तवील राहों
तूफ़ानी रास्तों के सफ़र पे
इस शहर की डगर पे
मिले हमसफ़र कैसे और कहाँ
कि बहुत फ़ासले हैं
दिलों के दरमियाँ
हर नज़र की रोशनी है फ़र्क़
हर का तनहा नज़रिया है जुदा।

Monday, April 03, 2017

Uncertainty,
Here, I make peace with you
No wonder so
I live happy!

Thursday, March 23, 2017

बेजा आस

मेरी सुबह, मेरी शाम
घर से काम 
और वापस  
घूमती मुड़ती सड़कें तमाम 
हैं उदास -
पर ठहरी हुई है प्यास 
इस ठौर पे 
कि तुमने हमारे साथ से यूँ कह दिया -
बस मुझ पे छोड़ दो.

Monday, March 20, 2017

बेफ़ायदा है ज़ीस्त में अहबाब का हुजूम
हो पैकरे ख़ुलूस तो काफ़ी है एक शख़्स

Sunday, March 19, 2017

Language sure evolves
as vocabulary expands-
in love thesaurus
yesterday were entered
words and phrases
which I thought were
from worlds
of trade and commerce -
no binding contract
what did I get out of it
cooling period
let me think
don't have what you ask for
we'll return to table
and,
we'll talk
aka negotiate!


It was output
of the moment -
a verbal orgasm
said in impulse;
the line that was handed
that to me was a lifeline
for you just a sighed statement!
it no longer stands
there is no commitment to hold
I am told
it's  all I need to know
in my now
where separated
he ushers call
not to rejoice
give meaning to any loving thought
for his reckless utterance
at peak
had erroneously created
in collusion
with my naive acceptance
a fallacy of perception;
reality is this  chasm
with me on this side
and him on that -
it vies in expanse
with distance
between heaven
and the world below!
फिर सुबह हुई है
एक और दिन मिला
जीने और अहसास करने 
ये कि
गिर्द चमकते भुलावों, 
रिवाजों, उसूलों की टीपा तापी से 
अधिक बहुमूल्य है 
मन की कसक 
जो सृष्टि के सपाट कैन्वस पे
मेरे अस्तित्व की पहचान है
हर अवहेलना से बालातर
रहूँ स्थिर यहीं 
कि मैं हूँ जहाँ
यही मेरे वजूद का स्थान है।

Tuesday, March 07, 2017

I lived content
In my kingdom there was
No pestilence but peace
When he ventured in
The Pied Piper returned
Casting his spell
With magic melody
There was cheer
There was joy
Not an iota of ploy
I let go
Rejoicing in presence
Believing in Eden
He promised to inhabit with me...
Until -
Trance was broken
Love song went silent
As he clumsily fumbled
With pieces of the flute
Trying to glue
With lame excuse
Hurting sore as a bruise,
I turned in with a cry
To let go
Of question that rose
I ask - Why?

Sunday, March 05, 2017

History of lives spent
for love speaks
pages in volume - love in garbs of fear
passion, playing rough in romance
possession, drama and deals
games of power
rejoicing in gain
parting in pain
I look in my mirror
to find history of mine
in the well of his soul
I peer in
through his hooded eyes

heavy lids drooping to close
I pick up my pearl
polish and return,
to where in my heart
it belongs -
here the temple
is pure.

उसने कहा था on 13.7.16

उस ने कहा:

सुना है बारिश है तुम्हारे शहर में,
 ज़्यादा भीगना मत
धुल गयी सारी ग़लतफ़हमियाँ अग़र,
 बहुत याद आएँगे हम

तो फिर हम ने कहा:

याद जो बारिश से ग़लतफ़हमी धुलने की मोहताज हो -
मेरे आँगन में नहीं पड़ती
हम ने शमा-ए-उल्फ़त जलायी है यहाँ
रहमते खुदा से लौ ले कर।

😐

Two opposites -
One dark
One light
One love
One compromise
One emotion
One rationalise
One matter
One spirit
Aching to come together
For in fusion
Is fullness of delight.

Saturday, March 04, 2017

Gut wrenches
Pain wants to exteriorise
Scrape off cells
And space between the cells
Of his presence within
His reflection
In me since eternity -
I reach to cut out
Then heart cringes
Stop!
Don't let go
This is all you have to own
Of the one who is
Your only own entity ....
Rest all is illusion
Of reality.

होती जो बात
सिदक और सदाक़त की
तो आस होती ताउम्र रफ़ाक़त की
सिले लबों को जुंबिश मत देना
यूँ भी -
वफ़ा है बात ज़रा नज़ाकत की!
बदलते वक़्त के साथ
बदलते है हालात और जज़्बात -
इंसान कहाँ बदलते! 

Friday, March 03, 2017

बारहा चेहरे बदल के पेश जो आती है ज़िंदगी
एक बार तो आशिक़ों के दर पे बेहिजाब आ .


रुसवा किया, सोजो ग़म से तारूफ करा दिया
हर बार हम ने हंस, तुझे बाआबरू विदा किया

काफ़ी है

बना दिल काबा
तुम्हारी यादों तुम्हारे लापरवाह वादों का
हुई रूह गरदाँ 
तायफ़ उन अहसासों की 
जिन से वजूद की ग़िज़ा बरक़रार है...
काफ़ी है।

Thursday, March 02, 2017

fire-walk

Be beside
Lock in with eyes
Feel breath intertwine
Hold small of the back
Tug gentle at fingertip
Then -
Lo see me swirl
See me dance
Waltz over across
The fire-walk
It's set, lit up
For me.


Tuesday, February 28, 2017

मेरी बाती की लौ

चाँद उतरा था
मेरे आँगन में लिए
सूरज की चंद शुआओं का नूर
मैंने पलटाया उसे ये कह कि -
चाहा है जिस शम्स को तहेदिल से भरपूर
यूँ कैसे ले लूँ
कैसे करूँ टुकड़ो में बटी चाहत को क़ुबूल?
दस्तूरे इश्क़ और रस्में व्यापार भी हैं क़ायल इस के
उसूल से लाज़िम है कि मिले
पुरे के बदल पूरा ही हुज़ूर,
और मैंने कब नाप तौल में अपने
कोई चूको कसार छोड़ी है
तो फिर जिसकी आंच में बस के
मैंने सँवरी सेहर जानी है
उसके मुकम्मल की रहूंगी
मुंतज़िरो मुश्ताक़ ज़रूर
गो कि गहन है नागवार बहुत
हैं यकीन क़ुदरत पर
आएगा कभी मेरे सुबह की वो रौनक़ बन कर
वऱना रहे रात सही
ख़िलक़त से गुफ़्तार सही
चाँद जाओ कि मेरी बाती मैं
लपट बाकी है
गो है कमजोर सही,
बीच वीरानों में वफ़ा से जलती तो है
ड्योढ़ी पे ठहरे अन्धेरो की है परवाह नहीं
मेरी नज़रों को इस ढिबरी की लौ में
सिमटने की आदत सी है.



Monday, February 27, 2017


हर उम्मीद
हर अहसास से
झोली ख़ाली है मेरी ।

Saturday, February 25, 2017

ढूँढती हुँ मैं
उन नज़रों को
जहाँ शोख़ी के साथ सच की शान शोभती थी
किरदार और क़ुदरत साथ मिल के
प्यार के सच्चे रंगों से होली खेलते थे
यूँ चढ़े मन पे
कि वक़्त की चाल ने
रंग पक्का कर दिया
ऐसा -
साँझ की किरणों को भी
ये उजाला देते हैं.।

Friday, February 24, 2017

being authentic
has its price and perk
the world sees you as a jerk
however -
heart  is whole
no shadows lurk.
i love 
so i endure,
you are
so i thrive.
so be
i set you free.

Thursday, February 23, 2017

Test me not
I refuse to scribe
On your test page -
Non action, non violence is lesson
Imparted by each and every sage!
आज के सन्नाटे
को काट रही है फिर
झकझोरती हवाओं की सायँ सायँ
फ़र्क़ बस ये है -
कि पटना की हवा में लू की धधक थी
परदेस मे सर्द बर्फ़ीली फ़िज़ा से है जुस्तजू।

गुचों की रंगों बू से
अपना गुलदस्ता सजाने के लिए
खून और पसीने से सींचता है, बाग़बान
ना कि सोख्ता है सिर्फ पाने के लिए. 

सच है

कभी उल्फत कभी नखरों
के उलझाओ से
कभी विनती कभी चूमकार से
कभी तेज तकरार से
कभी गुस्से में भेड़े किवाड़ से
या प्रीत की गुफ़्तार से,
हर परदे की आड़ से परख के
रूप एक ही सच का पाया
सरगोशी करता इकरार से -
रस्मों के दिए अधिकार से परे
हमें तुम से प्यार है।


Wednesday, February 22, 2017

No smooth ascent or descent
on elevators and escalators
I see-saw
Joyriding through life!

बहाओ

कुछ के कटाक्ष
मन तड़पा गए 
कुछ की अनकहे सहज भाव 
दिल सहला गए 
फिर बुद्ध सज्जन की सरगोशि 
कर्णस्पर्श कर ये समझा गए -
बस आज से आज ही तलक 
तो जीने की बात है
कल कोई साथ था 
आज किसी ने छोड़ा हाथ है 
क्या फ़र्क़ पड़ता है जब कल 
तुम्हारे ही प्रांगण में 
फिर सब से मुलाक़ात है!

Sunday, February 19, 2017

कल बीत गया
आज ठहरा है 
आने वाला कल 
है बेपरवाह 
कि तुम पे भरोसा गहरा है.
सजदा हर हाल में
शुक्र का लज़िम हुआ
नाखुदा ना सही
इश्क़ के सैलाब में
सोज़े सनम के अंजाम में
हुब्बे खुदा तो हासिल हुआ।

Saturday, February 18, 2017

worth a thousand words
is silence
that instills knowing
no hurt no pain
can undo meaning
of what being
with you brings.
It's morning time
For reflection -
Listening to heart
I seek to answer
The allegation -
'You don't care'
Not true - I object
Me Lord
More than I care
To claim
Or, be rightfully claimed
In love -
I care
To give and receive
what's just and fair.

Friday, February 17, 2017

तुम्हारी आँखों से दुनिया जब जानती थी
गुलों में रंगो, बू थी
पलटी नज़र तो ख़िजाँ बढ़ी -
इस के आँगन में
मैं ने ख़ुद को पहचाना है. 
ना तुम दामन छोड़ते हो
ना मन विरह का सिरा थामता है
धूप दे झलक अगर
एक भी किरण से
तो दीवाना दिल झूमता, मचल
उड़ने का बहाना माँगता है.

not ready, yet set to go

Small steps
Tiny measures
Everyday,
To withdraw
Inch into oblivion
It feels safe to belong
To today. 
इंसानियत का साथ
स्वार्थ में सोखा
कोरा, अधूरा होता है -
चाँद की चाँदनी
धूप की रोशनी
चिड़ियों की रागिनी
में बसूँ कुछ ठौर
फिर तो ये साँस चले।
कुछ ने ख़ूब साथ निभाया है मेरे दर्द में
खुदा करे कभी उन्हें कोई चोट ना हो.

Monday, February 13, 2017

I'd thought this year
I will finally
Have my Valentine
He'll pamper my soul
Will make me feel dear
Until all hopes
Were stripped away
To bare
Soul of the man -
Its sold
It's captive to fear!

प्यार के बलात्कार पर 
सुना है
समूची खिलकत रोती है.
और तुम्हारी क़ुदरत?
क्या ख़ामोश 
इस रुदन के साक्षी रहोगे?
 
When love chooses
To desecrate
All good and beauty
Fail to avail;
Simplicity is easy casualty
Even if staying alive
Is at stake!
Goodness and simplicity
Said to allure of deceit
That we withhold and restrain
Is not coz there isn't any pain
We hold fort
For love and peace,
Keep sush
Endure, not hurt to regain
For justice to prevail
We'll not push
Nor endeavour to get even
But hey ho -
Heed be warned
Respect - my lines
For I will not let you trespass
Beyond your boundaries of  lust
To slaughter self worth
Within my peaceful domain.

Wednesday, February 08, 2017

बिन मानी चिराग़ों को बुझा के
थपक दो सूला दो
मेरे कल को भुलवा दो 
क़ि अब सच सींचने को
और आंसू नहीं मेरे पास ।

Tuesday, February 07, 2017

Their eyes met
for a moment to get 
glimpse of Self
in the other's soul.
Both were a part filled bowl,
that clanged for a while 
to cheer and mate, 
to quench
with fervour 
they attempted
to devour 
to take fill of the other
without a pause to exchange 
or, give more of one
to other 
so half that's better 
could sustain -
they moved on,
for illusionary gain..

They departed 
each on way 
chosen on preference of their own
using urgings of mind,
despair and despise,
and not dictums of heart
to guide 
Which path they'd walk
paths that had been trod before
by so many akin
but not by traveller who listens
to solo tune that's their own
they cared not to savour 
the nectar 
they'd blessed with
in depths of their soul
Like so many other
they chose to suckle, 
not nourish nor offer succour
to be togetheras One -
being complete 
in their whole and sole.

Little wonder it was -
they were lost again
from being near to Eden
they turned 
as they chose -
to further wander 
on the lone!

Friday, February 03, 2017

Simplicity is my flaw
I'm told
When I lived so
Believing -
It's Your will Your law!

offering

Overcoming all fears
I've bid adieu
To all that takes
Me away from You.

Sunday, January 29, 2017

प्रिये -
आंख खुली जो बिस्तर पे 
भयावह स्वपन था मन को दहला गया 
सहस बढे चले थे हाथ
तुम्हे चेताने 
जब यथार्त ये समझा गया -
कल तुम थे आज नहीं
मेरा सिरहाना तनहा है,
अब सूखे या सैलाब से
कोई आड़ नहीं इस जीवन में
ये ख्याल बस 
बिन जल मछली सा
समूचे अस्तित्व को तड़पा गया.
खुद को तुम्हरी नज़रों से पहचानने की लगन में
खो गए कुछ यूँ सनम
कि खुद को पाने की जब हुई फ़िकऱ 
फेरी निगाह, खुद पे धरी नज़र 
तो पाया
गुज़रता वक़्त धूमिल कर चला था
दृश्य और दृष्टि दोनों ही पड़ रहे हैं कम
अस्तित्व सँभालने को नहीं हम सक्षम -
सो जाते जाते मुझ से मेरी पहचान करा दो.


Friday, January 27, 2017

exiled

I stand at brink
of sweet city of love
where I belong,
I long
To be home
I long to be held
in beloved's arms.
It is guarded well however
by soldiers who are
of my very own;
without siren or bugle to warn
they hurl to hurt;
wounded I stand alone
to face arrows and darts
of judgement
that sting at heart
How do i hit back
or retaliate,
knowing full well
that with my Prince on retreat
having signed Royal decree
that I'm ransom
for treasures he seeks
I am consigned forever
to the outskirts
of the city that I love. 

Tuesday, January 24, 2017

चलो अब इंतज़ार नहीं करेंगे
घड़ी की टिक टिक
वक़्त की रफ़्तार से फ़रियाद नहीं करेंगे
तुम्हारी बातों से दिल धड़कता है
तुम से मिल कर सुकून मिलता है
ये अहसास फिर भी है -
जो मानी मुझे है मयस्सर
इस रिश्ते से
शायद तुम को वो नहीं मिलता है
तो लो वफ़ा के नाम पे
हम ख़ुद में ख़ुद को रोक लेते हैं
लबों को सिल. लफ़्ज़ों को लोरी देते हैं
मगर ये कैसे कह दें
कि हर पल
ना होगा साथ ख़्याल
ये क्योंकर मुमकिन है
कि ज़िंदा हम तो रहेंगे
और तुम्हें याद नहीं करेंगे?



Saturday, January 21, 2017

Happy - The end

A new story -
Set to a new scene
It still has at play
An older you, a lighter me.

This time I dance
In light of love
So suavely I move
As you waltz me upon your feet
Tapping to your tune
I glide
Gracefully held at waist
When there's a trip
Heels are glued
I am braced against a fall
You've tugged me close
I stand tall
Without fear of what'll befall
Your heart's rhythm
Is fuel
To lighten my smile
Hugged, held safe in embrace
I know whats it like
To be complete
The cool of rain drop
Is felt
As it comes to rest
Over high curve of cheek
With a sigh that spells
Best of consummation
It has dissolved with that drop of tear
It knows this moment
From yester-year.


Thursday, January 19, 2017

Banquet is over


The Host ushers me in
To a splendour of colours 
Delightful aroma 
Lavishly served 
To pamper every sense
I can choose
Have what I want
Inner voice whispers 
To the roving gaze
Taking stock 
Of the platters 
To make my pick 
Just when I realise -
You are not on the menu
You are not on my list
Hmmmm....
I ignore
The bite of desire
 pang
The song that
Heart yearned it sang,
With a final look 
I withdraw to rise 
Smile polite 
And speak
To the lady eyeing from close by
I say -
Here have my seat
I'd rather fast
And be on my way
For he for whom I hunger
Isn't meant for me.


Wednesday, January 18, 2017

कहानी तुम्हारी किरदार तुम्हारे,
फिर हम कौन लिखे में तब्दीली लाने वाले?

Tuesday, January 17, 2017

Who do I deny
Myself or you?
How do I lie?
To who should I be true to -
The fear that drives you
Or desire that makes me alive?

Saturday, January 14, 2017

मारका ए इश्क़ में
मांगना अब ऐब है
सो मैं भी खामोश हुँ
वो भी खामोश हैं
उनको सब है खबर
इस लिए चुप हुँ मैं
क्या हुआ जो ऑंख मैं
थोड़ी नमी आ गयी!


Friday, January 13, 2017

He wants to shortchange -
Love with friendship
Honesty with hypocrisy
Commitment with closure
So in stillness
I say
I love you
And turn away.

👆🏽 That happened when physical shingles wrestles with with emotional shingles on a snowy cold January day.

dosti ya kutti?

प्यार को दोस्त बनाने की कोशिश जारी है
वह भूल गए हैं -
ये मेरा इश्क़ है, मेरी तर्ज़ यारी है।

Tuesday, January 10, 2017

अमीरी का पैमाना यूँ तो है 
सिक्कों का हिसाब
लोग इसी लिए जमा करते हैं दौलत. ए जनाब 
पर मेरी पुंजी तो है बस
उनसे मिले लफ़्ज़, जुमले
और उनसे जुड़े जीने मारने के एहसास 
सो आज खोली जो गिरह 
पोटली की - वक़्त बोल उठा 
अनाड़ी हुँ इस रहगुजर पे 
समझ न पायी 
कैसे हुवे तब्दील जज़्बात? 
अभी कल तलक तो 
I love you 
पे तक़दीर का तकिया 
मेरा याराना था 
आज I love her 
का मिला खोखला नज़राना है...,


दर्द का हिसाब दिल क्या रखे
वो है तो ज़िंदगी का अहसास है!

Monday, January 09, 2017

सलाह टैगोर और गुलज़ार की है
सो कैसे भला टाली जाये,
चलो इसी बात पे
रोके लेते हैं खुद को हम -
कर देते देते है मद्धम
अपने उम्मीद के दीये की जलन,
फूल रख देते हैं अलग सीने से -
गुलदस्ते में सजे
दूर सही, दिखते तो हैं,
नदी का काम है बहना
उसे बांधें क्यूँकर?
लहरों को छू के हवा
रूखसार से सटती तो है;
लेकिन दिल के साज को न छेड़ें
ये शर्त ज़रा मुश्किल सी है
बड़े दिन बंद कमरे में
थे ये ख़ामोश पड़े
हौले से भी हाथ फिरा लुँ
तो चटख़ जाएँगे क्या?
मजबूर हुँ -
छेड़ूँ नहीं जो मन की मैं धुन
साज़ तो बच जाएगा
हम ख़ुद ही बिखर जाएँगे
.....
मेरे साज़ को सुर बेसुर ही सही
बस बजने दो यार!

Sunday, January 08, 2017

पहाड़.के पद पर पड़ी 
नज़र ने पाया 
उंचाई टूटी
रेज़ा हो पड़ी थी 
ख़ाक पर पड़े आड़े तिरछे
भटकते निशान
विखरे तो सेहरा
की रेत बन गये!

जब उठी नज़र 
उंच्चाईयो की तलाश मे
तो पाया -
गर्द का ग़ुबार जुटा
ज़मीन के सायों को छोड़ चला
छोटों बडे कंकड़ पत्थर बने 
और बढे तो चट्टान बन 
गगन तले अंकित 
स्थिर चोटी के एकाकीपन
का प्रमाण बन गये !

I lose myself
to loosen grip
of longing and desire
Only to slip
and find again
A self whose quest
was written by Decree
to be fulfilled
by love alone.

कभी आँख ना मिलाना
कि दिल का ये मर्म स्थल है
नेत्र से चले हथियार पिघला देते है
उठती चढ़ती सांसों को बहका देते हैं
पलक झपकने से पहले
कर देते हैं ये घायल,
सो लो संभल
ज़रा जो तू बढ़ा चपल
प्रीत के शीत को पाने को उत्छल
कर देते हैं ये घायल,
न नयन मिला
पलकों की चादर तान ज़रा
ये प्रीत मह्ज़  भुलावा है 
in my thirst
i am perched upon sand dune
watching warm wind blow dust
in the direction of oasis -
my oasis is right ahead
open and welcoming
cool and alluring
to senses left long to dry
but why?
Why am i imprisoned
without pins and shackles
I'm held captive
against call of my season -
self respect or surrender?
which is the reason
that makes me withhold
leaving unquenched
yearnings of my soul.

एक रात तुम्हारा दिल दुखाया
तो मेरे शब ओ रोज़ पच्चीस बरस से विरान हैं -
और तुम हम से 
तराज़ू बराबर करने की बात करते हो?

Saturday, January 07, 2017

फ़ैसला है मेरा -
तुम से ही शुरू
तुम पे ही खतम
बीच की भटकन -
सारी ज़िंदगी पे नाम
तुम्हारा ही रहेगा
क्यूँकि सब
मेरे रब की अता है।


Friday, January 06, 2017

from womb to tomb
tumbling through thick and thin
despairing when its dark and dim
making way
through commotion, confusion
wanton emotions
conflicting views
on who is right, and who is wrong
in whose opinion -
we live a life span,
the levied legacy of being human;
tell me O Lord in Heaven
have we then not been wired
doomed to fail and falter
forgive but i query in wonder
if in the realm of Divine will
we have not been
set up and born to 'sin'?
तुम्हारे इश्क़ की चाशनी तुम्हारे लबों से चुरा
अपने होंटो पे
लिपस्टिक, लिपग्लॉस के  रंगों तले 
तुम से ही छुपा ली है।